Mon. Jun 24th, 2024

News India19

Latest Online Breaking News

महिला रिपोर्टिंग चौकी टूंडला प्रभारी उप निरीक्षक अलवीना पठान ने झूठी एफआईआर दर्ज कराने से होने वाले अपराध को समय से रोका और कराया गलती का एहसास

महिला रिपोर्टिंग चौकी टूंडला प्रभारी उप निरीक्षक अलवीना पठान ने झूठी एफआईआर दर्ज कराने से होने वाले अपराध को समय से रोका और कराया गलती का एहसास

फिरोजाबाद । जनपद की तहसील टूंडला की रहने वाली 70 वर्षीय एक बुजुर्ग महिला ने शनिवार को महिला रिपोर्टिंग चौकी टूंडला प्रभारी उप निरीक्षक अलवीना पठान से मदद की गुहार लगाते हुए तहरीर किया कि, मेरे बेटे साजिद खान ने अपनी पत्नी, सास, साले व अन्य ससुरालीजनों के साथ मिलकर उसे, घर से बाहर निकाल दिया है। जिसकी वजह से वह, दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर है।

बुजुर्ग महिला की तहरीर को गंभीरता से लेते व त्वरित कार्यवाही करते हुए महिला रिपोर्टिंग चौकी प्रभारी उप निरीक्षक अलवीना पठान ने हमराह महिला आरक्षी सावित्री थाना हाजा को साथ लिया और मौके पर पहुंचकर जानकारी की तो, मामले को संदिग्ध पाया। इसलिए दोनों पक्षों को महिला रिपोर्टिंग चौकी टूंडला पर बुलाकर काउंसलिंग की तो, चौंका देने वाली हकीकत सामने आई। मामला प्रॉपर्टी से संबंधित निकला।

महिला रिपोर्टिंग चौकी प्रभारी उप निरीक्षक अलवीना पठान ने जानकारी देते हुए बताया कि, मामला एक मकान के बंटवारे का है। जिसमें, दो भाइयों के बीच मतभेद था। एक भाई मकान बेचना चाहता था। लेकिन, दूसरा नहीं। इन्हीं में से एक पक्ष ने महिलाओं को मिले हुए अधिकारों का दुरुपयोग करते हुए अपनी मां यानी की 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला को आगे करते हुए झूठा प्रार्थना पत्र तैयार कर थाने भेज दिया। जिसमें, बुजुर्ग महिला के उत्पीड़न और घर से निकाल देने की बात कही गई थी।

मामला जानकारी में आने के बाद दोनों पक्षों की काउंसलिंग की गई और अपनी बात कहने का पूर्ण अवसर प्रदान करते हुए गंभीरता से सुना गया। सबको सुनने समझने के बाद दोनों पक्षों को उनकी गलती का एहसास कराया कि, थोड़े से लालच की वजह से वे अपनी मां को मोहरा बनाकर थाने पर गलत सूचना और झूठी एफआईआर दर्ज कराकर एक संगीन अपराध करने जा रहे थे। जिसमें, शिकायतकर्ता को 70 साल की उम्र में थाने और कोर्ट कचहरी के चक्कर काटने पड़ते।

दोनों पक्षों को अपनी-अपनी गलती का एहसास होने के बाद आपसी सहमति से थाने पर समझौता करा दिया गया। दोनों पक्षों ने पुलिस का धन्यवाद करते हुए कहा कि, हम अपने लालच को पूरा करने के लिए एक बहुत बड़ी गलती करने जा रहे थे। उसके बाद दोनों पक्ष मन-मुटाव को दूर करते हुए आपस में गले मिले और राजी खुशी अपने-अपने घर को लौट गए।

आए दिन होने वाले ऐसे, झूठे मुकद्दमों को रोकने व लोगों को जागरूक करने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा विगत माह से संपूर्ण आगरा मण्डल में “ऑपरेशन मिशन जागृति” चलाया जा रहा है।

क्या है ऑपरेशन मिशन जागृति ?

हिंसा से पीड़ित महिलाओं व किशोरियों को काउंसलिंग व रेफरल सुविधा, युवा बालिकाओं को साइबर हिंसा के बारे में जागरुक व सचेत करने, पाक्सो अधिनियम के महत्वपूर्ण प्रावधानों के प्रति जागरुक व सचेत करने, किशोरियों के साथ स्वस्थ रिलेशनशिप व जीवनशैली पर जागरुक करने, महिलाओं व बालिकाओं को अपने अधिकारों व सुरक्षा के बारे में समझ व जागरुकता पैदा करने, गलत सूचनाओं पर अंकुश लगाने, समुदाय को झूठे मुकदमों से होने वाली क्षति के बारे में जागरुक करने एवं ऐसे मामलों में कमी लाने और विशेषकर महिलाओं की सुरक्षा हेतु बनाये गये कानूनों का दुरुपयोग के प्रति लोगों को सचेत करने के साथ साथ कांउसलिंग व रिपोर्टिंग सिस्टम को भी मजबूत बनाने के उद्देश्य से पुलिस महानिदेशक आगरा जोन, आगरा द्वारा जोन स्तर पर “ऑपरेशन जागृति अभियान” का नवंबर माह में शुभारंभ किया गया था।

विज्ञापन 3

LIVE FM

You may have missed