Tue. May 17th, 2022

News India19

Latest Online Breaking News

वार्ड 67 कैलाशपुरी क्षेत्र गढ़ रोड राकेश पार्षद के अंडर आता है

वार्ड 67 कैलाशपुरी क्षेत्र गढ़ रोड राकेश पार्षद के अंडर आता है राकेश पार्षद को नहीं दिखता  है और ना ही जल निगम अधिकारियों को नौचंदी  गांधी आश्रम चॉप्ले के बिल्कुल सामने यह दो गड्ढे खोदकर डाल रखे हैं इसमें अनहोनी होने का अंदेशा है कोई भी हादसा किसी भी वक्त हो सकता है किसी की भी जान जा सकती है और ना ही तो पाइप लाइन काम करने के लिए जल निगम की निगाहें खुली है और ना ही वार्ड पार्षद राकेश वह तो बिल्कुल ही अनदेखा करते हैं उनके वार्ड में तो नगर निगम का पैसा खाकर बैठे हैं क्योंकि नाली नहीं बना पाए ना नाला बना पाए ना सड़क बना पाए ना कर्मचारियों को उनके वर्क करने के लिए सामान दिला पाए सब पैसा खा जाते हैं जो नगर निगम समान देती है झाड़ू चांगला  ठेला वह सब पैसा जेब में होता है किसी कर्मचारी को सामान नहीं मिला होता है और सुपरवाइजर वे सेनेटरी इंस्पेक्टर भी इसमें शामिल होते हैं क्योंकि एरिया सुपरवाइजर और इंस्पेक्टर का काम है उसको कराना ताकि कर्मचारी को मुसीबत ना होए एक बार पार्षद 5 साल के लिए है लेकिन सेनेटरी इंस्पेक्टर का तो पता ही नहीं चल पाता है कि वह कब तक रुके सरकारी है सुपरवाइजर सरकारी है फिर भी उनकी नजर मैं आता नहीं मैवार्ड 67 कैलाशपुरी क्षेत्र गढ़ रोड राकेश पार्षद के अंडर आता है राकेश पार्षद को नहीं दिखता है और ना ही जल निगम अधिकारियों को नौचंदी गांधी आश्रम चॉप्ले के बिल्कुल सामने यह दो गड्ढे खोदकर डाल रखे हैं इसमें अनहोनी होने का अंदेशा है कोई भी हादसा किसी भी वक्त हो सकता है किसी की भी जान जा सकती है और ना ही तो पाइप लाइन काम करने के लिए जल निगम की निगाहें खुली है और ना ही वार्ड पार्षद राकेश वह तो बिल्कुल ही अनदेखा करते हैं उनके वार्ड में तो नगर निगम का पैसा खाकर बैठे हैं क्योंकि नाली नहीं बना पाए ना नाला बना पाए ना सड़क बना पाए ना कर्मचारियों को उनके वर्क करने के लिए सामान दिला पाए सब पैसा खा जाते हैं जो नगर निगम समान देती है झाड़ू चांगला ठेला वह सब पैसा जेब में होता है किसी कर्मचारी को सामान नहीं मिला होता है और सुपरवाइजर वे सेनेटरी इंस्पेक्टर भी इसमें शामिल होते हैं क्योंकि एरिया सुपरवाइजर और इंस्पेक्टर का काम है उसको कराना ताकि कर्मचारी को मुसीबत ना होए एक बार पार्षद 5 साल के लिए है लेकिन सेनेटरी इंस्पेक्टर का तो पता ही नहीं चल पाता है कि वह कब तक रुके सरकारी है सुपरवाइजर सरकारी है फिर भी उनकी नजर मैं आता नहीं मै

विज्ञापन 3

LIVE FM