Fri. Sep 24th, 2021

News India19

Latest Online Breaking News

पिता के सामने डॉक्टर ने खींची बेटी के मुंह में लगी ऑक्सीजन की नली तड़पकर मौत

#pilibhit

खबरें और विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें वीरेंद्र कुमार न्यूज इंडिया 19 ब्यूरो चीफ पीलीभीत 75055 88310   -पिता के सामने डॉक्टर ने खींची 16 वर्षीय बेटी के मुंह से ऑक्सीजन तड़प कर मौत कोरोना काल में कहीं भगवान तो कहीं शैतान बने रहे डॉक्टर कोरोना काल में कितनी भयावह स्थिति रही यह किसी से छुपी नहीं है सरकारी अस्पतालों में अव्यवस्थाओं के चलते लोगों ने तड़प कर अपनी जान दे दी वहीं प्राइवेट अस्पतालों में पैसों की खातिर लोगों को उनके परिजनों के सामने ही मार दिया गया जगह-जगह से डरावनी तस्वीरें आती रही मगर इस प्राकृतिक आपदा में कोई किसी को देखने वाला नहीं था और ना ही कोई सुनने वाला लोग अस्पतालों के आगे रोते रहे चिल्लाते रहे बिलखते रहे न्यायिक प्रक्रिया भी सड़कों पर घूमती रही न्यायालय तक नहीं पहुंच पाई इसी पूरे पाठ्यक्रम का हिस्सा बन गई भूप राम की 16 वर्षीय पुत्री जो अब आज इस दुनिया में नहीं है जनपद पीलीभीत के थाना जहानाबाद के गांव सैजना निवासी भूप राम ने पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देकर बताया उसने अपनी 16 वर्षीय पुत्री को कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से इलाज कराने के लिए 23/4 /2021 को डॉ जेएन मिश्रा राम अवध हॉस्पिटल के यहां भर्ती कराया था इलाज के दौरान सीटी स्कैन भी किया जांच में फेफड़ों में संक्रमण की पुष्टि हुई थी डॉक्टरों की सलाह के अनुसार भूपराम की पुत्री को 24 घंटे ऑक्सीजन में ही रखा जाना था देखभाल हेतु भूपराम हमेशा अपनी पुत्री के पास ही रहते थे आरोप है कि धन के अभाव के कारण डॉक्टर जे एन मिश्रा के द्वारा पीड़ित भूप राम के सामने ही उसकी पुत्री के मुंह से ऑक्सीजन निकाली गई जिससे उसने तड़प कर अपने पिता के सामने ही दम तोड़ दिया आरोप यह भी है कि ऑक्सीजन किसी दूसरे शख्स को लगानी थी ऑक्सीजन की किल्लत थी डॉक्टर के पास किसी नेता का फोन आया और डॉक्टर ने भी मजबूरन एक गरीब की बेटी के मुंह से ऑक्सीजन हटाकर दूसरे शख्स को लगा दी यह पूरा घटनाक्रम अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद है पीड़ित भूप राम ने अपनी मृत पुत्री की आत्मा को न्याय दिलाने के लिए डीएम एसपी सीएमओ ऑफिस हर जगह प्रार्थना पत्र दिए मगर आज तक घटना के संबंध में कोई अधिकारी राम अवध अस्पताल के डॉक्टर जे एन मिश्रा तक नहीं पहुंचा और आज भी पीड़ित भूप राम अपनी मृत बेटी को न्याय दिलाने के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है गरीबों के लिए न्यायिक प्रक्रिया पूरी तरह सड़कों पर घूम रही है ऐसा प्रतीत होता है कि गरीबों मजदूरों बेसहारा लोगों के लिए न्यायालय से न्यायिक प्रक्रिया कोसों दूर है

विज्ञापन 3

LIVE FM

You may have missed

1 min read