Fri. Sep 24th, 2021

News India19

Latest Online Breaking News

ग्राम पंचायत रुनकता में वृक्षारोपण को लाए गए जीवित पौधा को जंगल में फेंकने के मामले को क्यों दबा रहे अधिकारी एक पौधा एक जिंदगी केंद्र सरकार के अभियान को लगाया गया था पलीता… रिपोर्टर दीपक जादौन

ग्राम पंचायत रुनकता में वृक्षारोपण को लाए गए जीवित पौधा को जंगल में फेंकने के मामले को क्यों दबा रहे अधिकारी एक पौधा एक जिंदगी केंद्र सरकार के अभियान को लगाया गया था पलीता आखिरकार सैकड़ों जीवित पौधों को क्यों किया गया था मूर्छित जीवित पौधों को लगाने की बजाय क्यों फेंका गया था शिकायत के बाद भी कार्रवाई न होने से शिकायतकर्ता भी हैरान वह अधिकारी कौन था जिसके इशारे पर जीवित पौधे फेंके गए जनसंदेश टाइम्स ने भी जीवित पौधे फेंकने को प्रमुखता से किया था प्रकाशित प्रीतम शर्मा रुनकता। एक पौधा एक जिंदगी को कहने बाली केंद्र सरकार के 26 जून से 7 जुलाई तक वृक्षारोपण अभियान को पलीता लगाने वाले ग्राम पंचायत रुनकता में वह कौन कर्मचारी थे जिन्होंने केंद्र सरकार के अभियान को बेखौफ होकर ठेंगा दिखाया इतना ही नहीं सैकड़ों जीवित पौधों को लगाने के बजाय मूर्छित करने के लिए फेंक दिया गया आखिरकार जीवित पौधों को क्यों मूर्छित किया गया या फिर वह अधिकारी कौन है जिसके इशारे पर पौधों को जंगल या अन्य स्थानों पर फेंक दिया गया आखिरकार पौधे फेंकने का किसको अधिकार था जीवित पौधों को फेंकने के बाद ग्रामीणों ने जंगल व आसपास के स्थानों में पड़े हुए पौधों का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल किया इतना ही नहीं जीवित पौधों को मूर्छित होते देखकर लोग अपने आप को रोक नहीं पाए और वार्ड नंबर 1 से ग्राम पंचायत सदस्य आशा पत्नी मनोज ने शिकायत भी कर डाली लेकिन शिकायत के बावजूद भी किसी भी अधिकारी के कान पर जू नहीं रहगी आखिरकार सरकारी धन से लाए गए पौधे जिनको मूर्छित कर दिया गया और एक पौधा एक जिंदगी पूरे राष्ट्र में चलने वाले वृक्षारोपण अभियान के साथ खिलवाड़ की गई परंतु कितना घिनौना कार्य करने वाले कर्मचारियों को कौन अधिकारी बचाने में लगा है यह सवाल अब लोगों के मन में उठने लगा है सैकड़ों पौधों को मूर्छित करने वाले वह लोग आखिरकार क्यों बच रहे हैं और क्यों उनको बचाया जा रहा है शिकायतकर्ता की शिकायत को कौन अधिकारी दवाऐ बैठा है आखिरकार ऐसे लोगों के खिलाफ कार्यवाही के नाम पर परिणाम शून्य क्यों बना हुआ है। जीवित पौधों को क्यों किया गया मूर्छित। आखिरकार सवाल उठ लगे हैं कि वृक्षारोपण के लिए लाए गए ग्राम पंचायत रनकता में पौधे क्यों मूर्छित किए गए अगर नहीं लगाने थे तो इतने पौधे क्यों लाए गए सरकारी धन का क्यों दुरुपयोग किया गया ऐसे लोग कौन हैं जिन्होंने सैकड़ों पौधों की जिंदगीयो को बर्बाद कर दिया फिर भी इस प्रकार के कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत करने के बाद भी क्यों कार्रवाई नहीं हो पा रही है । वह कौन अधिकारी हैं जो शिकायत को दबाए बैठे हैं। सैकड़ों जीवित पौधों को मूर्छित करने वाले लोगों के खिलाफ शिकायतकर्ता ने शिकायत की लेकिन अधिकारी उस शिकायत को भी दवाये बैठे हैं आखिरकार शिकायत पर जांच तक नहीं विठाई ऐसा क्यों और ऐसे कर्मचारियों को जो सैकड़ों पौधों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर चुके हैं आखिरकार कार्रवाई के नाम पर क्यों बचाया जा रहा है। पौधे फेंकने बाले बेखौफ थे कर्मचारी। वृक्षारोपण को लाए गए पौधे को ना लगाकर मूर्छित करने के लिए फेंकने वाले कर्मचारी बेखौफ थे उनको किसी भी उच्च अधिकारी की तनक चिंता नहीं थी नाही सैकड़ों पौधों की जिंदगी को खराब करने की चिंता थी उन्होंने जीवित पौधों को मूर्छित करने के उद्देश्य से जंगल हुआ आसपास के स्थान पर फेंक दिया गया। फोटो ।वृक्षारोपण अभियान के लिए लाए गए जीवित पौधों को पूर्व में फेंकने के बाद जंगल में पड़े पौधे

विज्ञापन 3

LIVE FM

You may have missed

1 min read