Sun. Jun 13th, 2021

News India19

Latest Online Breaking News

बांदा जेल की बगिया में छुपा मिला भागा हुआ कैदी जनपद के मंडल कारागार से रविवार की शाम गायब हुआ चोरी के मामले में बंद एक कैदी अंततः जेल में ही बगिया की बड़ी-बड़ी घास. बांदा जेल की बगिया में छुपा मिला भागा हुआ कैदीबाँदा जेल फोटो दिलीप कुमार मिश्रा

बांदा जेल की बगिया में छुपा मिला भागा हुआ कैदी
जनपद के मंडल कारागार से रविवार की शाम गायब हुआ चोरी के मामले में बंद एक कैदी अंततः जेल में ही बगिया की बड़ी-बड़ी घास.

बांदा जेल की बगिया में छुपा मिला भागा हुआ कैदीबाँदा जेल

जनपद के मंडल कारागार से रविवार की शाम गायब हुआ चोरी के मामले में बंद एक कैदी अंततः जेल में ही बगिया की बड़ी-बड़ी घास के नीचे सांस रोककर छुपा मिला।जिससे जेल प्रशासन ने राहत की सांस ली है।

बताते चलें कि रविवार की शाम बांदा जेल में उस समय हड़कंप मच गया था जब चोरी के मामले में बंद विजय आरख नामक कैदी गायब मिला था। पहले तो जेल प्रशासन उसे जेल में ही खोजता रहा जब वह नही मिला तो अलार्म बजवाया गया, जिससे प्रशासन तक कैदी की भागने की सूचना पहुंच गई और प्रशासन में भी हड़कंप मच गया।इतना ही नहीं जेल अधीक्षक ने इस कैदी के भागने के मामले में शहर कोतवाली में मुकदमा भी पंजीकृत करा दिया।

यह भी पढ़ें – बांदा की जेल से सुरक्षा व्यवस्था को धता बता कैदी हुआ फरार

इस बीच जानकारी मिलने पर प्रयागराज मंडल के एडीजी जेल संजीव त्रिपाठी भी जेल पहुंच गए और उन्होंने कैदी को ढूंढने के निर्देश दिए हालांकि जेल प्रशासन द्वारा उसे फरार होना ही मान लिया था।इस बारे एडीजी जेल द्वारा बताया गया कि उनके निर्देश पर दोबारा जेल में ही भागे हुए कैदी की खोजबीन शुरू की गई। इसी बीच डिप्टी जेलर वीरेश्वर प्रताप सिंह अवगत कराया कि उक्त बंदी बगिया में बड़ी-बड़ी घास के नीचे सांस रोककर छुपा हुआ था।

उन्होंने बताया कि यह बंदी कारागार के कृषि फार्म में कार्य करता था और वहां उसने एक बड़े बांस को पडे हुए देखा था। जिसकी सहायता से कल उसने भागने का प्लान बनाया था और बैरक की छत पर चढ़कर बांस की सहायता से सर्किल वाल से कूद भी गया किंतु कूदने से उसे कमर में काफी चोट लग गई और वह कारागार की ऊंची मेनवाल फांदने में सफल नहीं हो पाया। ऐसे में पकड़े जाने के भय से वह ऊंची ऊंची घास में कल से ही भूखा प्यासा छुपा बैठा रहा। कैदी के मिल जाने से जेल प्रशासन व जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है। उधर डीजी जेल आनंद कुमार ने भी बंदी को कारागार के अंदर ही पाए जाने पर संतोष व्यक्त किया है।
बाइट- संजीव त्रिपाठी ( जेल डीआईजी प्रयागराज

विज्ञापन 3

LIVE FM

You may have missed