Tue. Sep 21st, 2021

News India19

Latest Online Breaking News

सुलतानपुर: पंचायत चुनाव से सबक न लेना क्या विधानसभा चुनाव में BJP को मुश्किल में डाल सकता है?

*सुलतानपुर: पंचायत चुनाव से सबक न लेना क्या विधानसभा चुनाव में BJP को मुश्किल में डाल सकता है?*

 

सुलतानपुर: क्या यूपी पंचायत चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के अंदर जमकर भितरघात हुआ? पार्टी इसकी समीक्षा करे, उसके पहले नेताओं के करतूतों के सबूत मीडिया के सामने आने लगे हैं. अभी भितरघात का एक कथित ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें सुल्तानपुर से बीजेपी नेता रामचंद्र मिश्रा की आवाज होने का दावा किया जा रहा है.

 

जानकारी मिली है कि वर्तमान जिला पंचायत सदस्य बबिता तिवारी के पार्टी में बढ़ते कद से नाराज होकर रामचंद्र मिश्रा बीजेपी के कार्यकर्ता से वार्ड नंबर 29 से पार्टी समर्थित उम्मीदवार यानी बबिता तिवारी को वोट नहीं देने का दबाव बनाते सुनाई दे रहे हैं. ऑडियो की मानें तो रामचंद्र मिश्रा कह रहे हैं कि मैं कोलकाता में हूं यानी बंगाल में हो रहे चुनावों में व्यस्त रहने की बात कह रहे हैं. वो कह रहे हैं कि जैसे पिछले चुनाव में आप लोगों नें हमारी मदद किया था। वैसे इस बार पांडेय जी की मदद करने के लिए कहते हैं। पांडेय जी यानी उनकी रिश्तेदार मनीषा पाण्डेय जोकि BJP समर्थित प्रत्यशी के खिलाफ चुनाव लड़ रही थी।

 

 

ऑडियो वायरल होने के बाद रामचंद्र मिश्रा नें इसे फ़र्जी करार करते हुए नगर कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी है और ऑडियो को कूटरचित बताया है. उनकी तहरीर पर धारा 505(2) के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है.

 

हालांकि जिस पार्टी कार्यकर्ता से बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ उनसे बातचीत करने पर वो अपने बयान पर कायम रहे, उन्होंने ऑडियो में रामचंद मिश्रा के होने की पुष्टि की है. ऐसे में BJP को इस मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच करना जरूरी हो जाता है.

 

कहा जा रहा है पिछले चुनाव में बीजेपी में ही रहे रामचंद्र मिश्रा इसी वार्ड नंबर 29 से बबिता तिवारी के खिलाफ चुनाव लड़े थे. जिसमें वे तीसरे नंबर पर रहे थे. तभी से वे बबिता तिवारी से नाराज चल रहे थे. क्षेत्र के कई सूत्रों से बातचीत की गई तो उन्होंने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि पार्टी के कई कार्यकर्ताओं से ऐसे ही मनीषा पांडेय का समर्थन करने के लिए कहा गया था.

 

 

क्षेत्र के लोगों का कहना है कि बीते चुनाव में हुई अपनी हार का बदला लेने के लिए वह यह तरीका अपनाएंगे शायद ऐसा किसी नें सोचा भी नहीं था. अगर वाकई ऐसा हुआ है तो BJP आलाकमान समय रहते यदि ऐसे नेताओं पर कोई कार्यवाही नहीं करते तो आने वाले विधानसभा चुनाव में भी BJP को इसका खामियाजा निश्चित रुप से भुगतना पड़ सकता है.

विज्ञापन 3

LIVE FM

You may have missed

1 min read